इतिहास Tricks

Genral Knowledge से संबंधित जटिल तथ्य जिन्हें आप आसानी से याद नही रख पाते, उन तथ्यों को इस पुस्तक में बहुत ही आसान व रोचक तरीके से प्रस्तुत किया गया है !! इस पुस्तक के माध्यम से आप बहुत ही कम समय मे सामान्य ज्ञान को याद कर पायेगें !!

एक उदाहरण हमारी BOOK का
GK TRICK GK TRICK GK TRICK GK TRICK

भारत में युरोपीय कंपनियो के आगमन का क्रम(क्रमशः)
Trick – {पुत्र अडा डैड फसा}

पुत्र – पुर्तगाली(1498)
अ – अंग्रेज(1600)
डा – डच(1602)
डैड – डैनिस(1616)
फ – फ्रांसीसी(1664)
सा – स्वीडिश(1731)

इसी तरह की ओर अधिक Tricks पाने के लिये खरीदिये GK Trick की किताब –

GK Trick Part - 2 खरीदने के लिये नीचे दी हुई Link पर Click करें !!
 

GK TRICK GK TRICK GK TRICK GKTRICK

प्रमुख ठंडी जलधाराऐं
Trick – {हम बोले ग्रीन बगुला क्यों केला FAK (फ़ेंक) रहा है}

हम बो – हम्बोल्ट की धारा
ले – लेब्रोडोर की धारा
ग्रीन – ग्रीनलैंड की धारा
बगुला – बेंगुऐला की धारा
क्यों – क्युराइल की धारा
केला – कैलीफ़ोर्निया की धारा
F - फ़ाकलैंड की धारा
A - आखोस्टक की धारा
K - कनारी की धारा

इस तरह आपको ठंडी जलधाराऐं याद हो जाऐंगी और बाकी बची हुई जलधाराऐं गरम होंगी !!

इसी तरह की ओर अधिक Tricks पाने के लिये खरीदिये GK Trick की किताब –

GK TRICK GK TRICK GK TRICK GK TRICK

क्षेत्रफल के अनुसार भारत के बडे राज्य
Trick – {राम महान है आप}
रा -राज्स्थान
म -मध्य प्रदेश
महान -महाराष्ट्र
आप -आंध्र प्रदेश

इसी तरह की ओर अधिक Tricks पाने के लिये खरीदिये GK Trick की किताब –

GK Trick Part - 2 खरीदने के लिये नीचे दी हुई Link पर Click करें !!
 

GK TRICK GK TRICK GK TRICK GK TRICK

दो बार नोबल पुरस्कार प्राप्त करने वाले व्यक्ति
अब तक केवल चार लोग ही दो बार नोबेल पुरस्कार जीत पाये हैं
----------------------------------------------------------------------
1.मेडम क्यूरी-वर्ष 1903 में रेडियो सक्रियता की खोज के लिये और वर्ष 1911 में शुद्ध रेडियम के निष्कर्षण के लिये

2.लीनस पोंलींग - वर्ष 1954 में हेब्रिडडाइज्ड के सिद्धान्त के लिए और वर्ष 1962 में नाभिकीय प्रयोग निषेध सन्धि एक्टिविज्म के लिए

3.जॉन बारडीन - वर्ष 1956 में ट्रांजिस्टर के अविष्कार के लिए और वर्ष 1972 मैं अतिचालकता के सिद्धान्त के लिए

4.फ्रेडरिक सेंगर - वर्ष 1958 में इन्सुलिन मोलिक्यूल की संरचना के लिए वर्ष 1980 में वायरस न्यूक्लियोटाइड की सिक्वेंकसिंग के लिए
------------------------------------------------------------------------

Trick - {मैडम और जॉन फ्रेंड ली है}

मैडम----मैडम क्यूरी
और-----(साइलेंट)
जॉन-----जॉन बारडिन
फ्रेंड------फ्रेडरिक सेंगर
ली-------लीनस पोलिंग
है--------(साइलेंट)

इसी तरह की ओर अधिक Tricks पाने के लिये खरीदिये GK Trick की किताब –

GK Trick Part - 2 खरीदने के लिये नीचे दी हुई Link पर Click करें !!
 

GK TRICK GK TRICK GK TRICK GK TRICK

मान बुकर पुरस्कार प्राप्तकर्ता भारतीय लेखक व उनकी पुस्तकें
Trick – {बीस AKA(आका=मालिक)}

बी - बी एस नायपाल(1971-In a free state)
स - सलमान रश्दी(1981-Midnight children)
A - अरुंधती राय(1997-The god of small things)
K - किरण देसाई(2006-The inheritence of loss)
A - अरबिंद अडिगा(2008-The white tiger)

इसी तरह की ओर अधिक Tricks पाने के लिये खरीदिये GK Trick की किताब –

GK Trick Part - 2 खरीदने के लिये नीचे दी हुई Link पर Click करें !!
 

GK TRICK GK TRICK GK TRICK GK TRICK

विश्व के प्रमुख बडे मरुस्थल (घटते क्रम में)
Trick – {SAAM काली}
S -सहारा मरुस्थल (अफ़्रीका महादीप)
A -आस्ट्रेलिया मरुस्थल (आस्ट्रेलिया महादीप)
A -अरबियन मरुस्थल (अरब प्रायदीप)
M -मंगोलिया मरुस्थल (एशिया व रुस के बीच)
काली -कालाहारी मरुस्थल (अफ़्रीका महादीप)
Note – थार मरुस्थल भारत का सबसे बडा व देश का 10वे नंबर का मरुस्थल है

इसी तरह की ओर अधिक Tricks पाने के लिये खरीदिये GK Trick की किताब –

GK Trick Part - 2 खरीदने के लिये नीचे दी हुई Link पर Click करें !!
 

GK TRICK GK TRICK GK TRICK GK TRICK

भारत के 7 केंद्र शासित प्रदेश
Trick – {चलो दिल दे दो आप}

च – चंडीगड
लो – लक्षदीप
दिल – दिल्ली
दे – दमन एवं दीप
दो – दादर एवं नागर हवेली
आ – अंडबान ब निकोबार दीप समूह
प – पांडिचेरी

इसी तरह की ओर अधिक Tricks पाने के लिये खरीदिये GK Trick की किताब –

GK Trick Part - 2 खरीदने के लिये नीचे दी हुई Link पर Click करें !!
 

 TRICK GK TRICK GK TRICK GK TRICK

प्रमुख वलित पर्वत
Trick – {यु आर ए हिमालय}
यु -युराल
आ -आल्पस पर्वत
र -रॉकी
ए -एण्डीज
हिमालय

इसी तरह की ओर अधिक Tricks पाने के लिये खरीदिये GK Trick की किताब –

GK Trick Part - 2 खरीदने के लिये नीचे दी हुई Link पर Click करें !!
 

GK TRICK GK TRICK GK TRICK GK TRICK

जनसंख्या के अनुसार देशों का घटता क्रम
Trick – {CIA और IB पाकिस्तान गये}
C -चीन
I -इंडिया
A -अमेरिका
I -इंडोनेशिया
B -ब्राजील
पाकिस्तान

इसी तरह की ओर अधिक Tricks पाने के लिये खरीदिये GK Trick की किताब –

GK Trick Part - 2 खरीदने के लिये नीचे दी हुई Link पर Click करें !!
 

GK TRICK GK TRICK GK TRICK GK TRICK

भारत की विश्व सुंदरियां
Trick – {RAD UP}
R – रीता फारिया(1966)
A – एश्वर्या राय
D – डायना हैडन
U – युक्ता मुखी
P – प्रियंका चोपडा(2000)

इसी तरह की ओर अधिक Tricks पाने के लिये खरीदिये GK Trick की किताब –

GK Trick Part - 2 खरीदने के लिये नीचे दी हुई Link पर Click करें !!
 

GK TRICK GK TRICK GK TRICK GK TRICK

राज्यों का गठन(क्रमशः)
Trick – {आम गुनाह ही मेघ मंत्र सी गर्मी(GARMI)दे सकता है}

आ -आंध्र प्रदेश(1953)
म -महाराष्ट्र(1960)
गु -गुजरात(1960)
ना -नागालैंड(1963)
ह -हरियाणा(1966)
ही -हिमाचल प्रदेश(1971)
मेघ –मेघालय(1972)
मं -मणिपुर(1972)
त्र -त्रिपुरा(1972)
सी -सिक्किम(1975)
G -गोआ(1987)
AR -अरुणाचल प्रदेश(1987)
MI -मिजोरम(1987)

इस किताब से आप लोग 1 घंटे मे 1000 G.K. के प्रश्न याद कर सकते हैं इस किताब मे G.K. की ऐसी tricks हैं जिन्हें आप लोग एक या दो बार पढ़कर आसानी से याद रख सकते हैं किताब को खरीदने के लिए अभी कॉल करें 9997295322

दोस्तो इस तरह की और ट्रिक्स पढ़ने के लिए आज ही G.K.Tricks by R.M.Upadhay की किताब खरीदे। अगर आप लोग किताब को घर पर ही मँगवाना चाहते हैं तो कॉल करें 9997295322।

Genral Knowledge से संबंधित जटिल तथ्य जिन्हें आप आसानी से याद नही रख पाते, उन तथ्यों को इस पुस्तक में बहुत ही आसान व रोचक तरीके से प्रस्तुत किया गया है !! इस पुस्तक के माध्यम से आप बहुत ही कम समय मे सामान्य ज्ञान को याद कर पायेगें। इस किताब के लेखक रवि मोहन उपाध्याय है और इस किताब का नाम g.k.tricks by r.m.upadhyay है लेखक रवि मोहन उपाध्याय ने बच्चों के बारे मे सोचते हुऐ इस किताब को इस प्रकार लिखा है कि किताब के एक पेज को एक या दो बार पढने से एक बार मे 20 से भी अधिक प्रश्न आसानी से याद हो जाते है बस आपको याद रखना है।
उदहारण-
विभिन्न प्रत्योगी परीक्षाओं में तुलसीदास से सम्बन्घित प्रश्न अक्सर पूछे जाते है इस युक्त्ति के माध्यम से आप तुलसी दास से सम्बन्घित प्रश्न आसानी से याद रख सकते है आपको याद रखना है एक छोटा सा वाक्य--
दो कवि राह में गीत गाते है
दो = दोहावली
कवि = कवितावली
रा = रामचरित्र मानस
ह = हनुमान चालीसा
गीत = गीतावली
इस प्रकार आप आसानी से याद रख सकते है कि दोहावली, कवितावली, रामचरित्रमानस तथा हनुमान चालीसा गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित रचनाऐं है
इस प्रकार की बहुत सी रचनाओं को आसानी से याद रखने के लिये आज ही किताब खरीदे- g.k.tricks by r.m.upadhyay, इस किताब के लेखक रवि मोहन उपाध्याय अब तक तीन किताब लिखी है। तीनों किताबो को घर बैठे मगवाने के लिये कॉल करें 9997295322 और जब किताबें घर पर पहुँच जाये तभी भुगतान करें।
.
दोस्तो पूरे भारत की एकमात्र ऐसी किताब जिसके द्वारा आप G.K. के 1000 प्रश्न मात्र 1 घंटे आसानी से याद कर सकते है यह किताब लेखक रवि मोहन उपाध्याय द्वारा लिखित है। यह किताब आप सब लोगो के लिए बहुत उपयोगी है यह किताब आपकी प्रत्येक प्रतियोगी परीक्षा में आपकी मदद् करेगी। इस किताब को प्रत्येक विद्यार्थी तक पहुँचाने के लिये mr. Ravi mohan upadhyay इस किताब को ऑनलाइन उपलब्ध कर दिया है GK Trick Part - 2 खरीदने के लिये नीचे दी हुई Link पर Click करें !! G.K.Tricks (e-book) eBook | Pothi.com
Gk Tricks By Sir R M Upadhyay

Wwww.bookofgktricks.com       

Keshav sharma

दोस्तो आप इस किताब की बहुत सी ट्रिक्स मुफ्त में ही पा सकते है गूगल पर सर्च करें। g.k.tricks by r.m.upadhyay
और दोस्तो इस किताब को आप अपने घर बैठे ही अपने नजदीक स्थित पोस्ट ऑफिस के द्वारा भी प्राप्त कर सकते है और जब किताब आपके पास पहुँच जाये तभी भुगतान करें। घर बैठे किताब को मगवाने के लिये कॉल करें
9997295322

दोस्तो ये किताब प्रतियोगी परीक्षाओ में बहुत उपयोगी है इसके लेखक रवि मोहन उपाध्याय है इस किताब से आप 1000 जी0 के0 के प्रश्नो को मात्र 1 घंटे में याद कर सकते है।
इस किताब के तीनों भाग खरीदने के लिये अभी कॉल करें- 9997295322
और फ्री मे इस किताब की ट्रिक्स पाने के लिये गूगल पर सर्च करें
G.k.tricks by r.m.upadhyay
Contect No- 9997295322
C.O.D.
whatsapp no- 999729532

Gk Tricks By Sir R M Upadhyay

Wwww.bookofgktricks.com       

Keshav sharma

भारत का इतिहास  

भारत का इतिहास

पाषाण युग- 70000 से 3300 .पू

मेहरगढ़ संस्कृति

7000-3300 ई.पू

सिन्धु घाटी सभ्यता- 3300-1700 .पू

हड़प्पा संस्कृति

1700-1300 ई.पू

वैदिक काल- 1500–500 .पू

प्राचीन भारत - 1200 .पू–240 .

महाजनपद

700–300 ई.पू

मगध साम्राज्य

545–320 ई.पू

सातवाहन साम्राज्य

230 ई.पू-199 ई.

मौर्य साम्राज्य

321–184 ई.पू

शुंग साम्राज्य

184–123 ई.पू

शक साम्राज्य

123 ई.पू–200 ई.

कुषाण साम्राज्य

60–240 ई.

पूर्व मध्यकालीन भारत- 240 .पू– 800 .

चोल साम्राज्य

250 ई.पू- 1070 ई.

गुप्त साम्राज्य

280–550 ई.

पाल साम्राज्य

750–1174 ई.

प्रतिहार साम्राज्य

830–963 ई.

राजपूत काल

900–1162 ई.

मध्यकालीन भारत- 500 .– 1761 .

दिल्ली सल्तनत

ग़ुलाम वंश

ख़िलजी वंश

तुग़लक़ वंश

सैय्यद वंश

लोदी वंश

मुग़ल साम्राज्य

1206–1526 ई.

1206-1290 ई.

1290-1320 ई.

1320-1414 ई.

1414-1451 ई.

1451-1526 ई.

1526–1857 ई.

दक्कन सल्तनत

बहमनी वंश

निज़ामशाही वंश

1490–1596 ई.

1358-1518 ई.

1490-1565 ई.

दक्षिणी साम्राज्य

राष्ट्रकूट वंश

होयसल साम्राज्य

ककातिया साम्राज्य

विजयनगर साम्राज्य

1040-1565 ई.

736-973 ई.

1040–1346 ई.

1083-1323 ई.

1326-1565 ई.

आधुनिक भारत- 1762–1947 .

मराठा साम्राज्य

1674-1818 ई.

सिख राज्यसंघ

1716-1849 ई.

औपनिवेश काल

1760-1947 ई.

भारत में मानवीय कार्यकलाप के जो प्राचीनतम चिह्न अब तक मिले हैं, वे 4,00,000 ई. पू. और 2,00,000 ई. पू. के बीच दूसरे और तीसरे हिम-युगों के संधिकाल के हैं और वे इस बात के साक्ष्य प्रस्तुत करते हैं कि उस समय पत्थर के उपकरण काम में लाए जाते थे। जीवित व्यक्ति के अपरिवर्तित जैविक गुणसूत्रों के प्रमाणों के आधार पर भारत में मानव का सबसे पहला प्रमाण केरल से मिला है जो सत्तर हज़ार साल पुराना होने की संभावना है। इस व्यक्ति के गुणसूत्र अफ़्रीक़ा के प्राचीन मानव के जैविक गुणसूत्रों (जीन्स) से पूरी तरह मिलते हैं।[1]इसके पश्चात एक लम्बे अरसे तक विकास मन्द गति से होता रहा, जिसमें अन्तिम समय में जाकर तीव्रता आई और उसकी परिणति 2300 ई. पू. के लगभग सिन्धु घाटी की आलीशान सभ्यता (अथवा नवीनतम नामकरण के अनुसार हड़प्पा संस्कृति) के रूप में हुई। हड़प्पा की पूर्ववर्ती संस्कृतियाँ हैं: बलूचिस्तानी पहाड़ियों के गाँवों की कुल्ली संस्कृति और राजस्थान तथा पंजाब की नदियों के किनारे बसे कुछ ग्राम-समुदायों की संस्कृति।[2] यह काल वह है जब अफ़्रीक़ा से आदि मानव ने विश्व के अनेक हिस्सों में बसना प्रारम्भ किया जो पचास से सत्तर हज़ार साल पहले का माना जाता है।

प्राचीन भारतीय इतिहास के स्रो

भारतीय इतिहास जानने के स्रोत को तीन भागों में विभाजित किया जा सकता हैं-

  1. साहित्यिक साक्ष्
  2. विदेशी यात्रियों का विवर
  3. पुरातत्त्व सम्बन्धी साक्ष्

साहित्यिक साक्ष्

साहित्यिक साक्ष्य के अन्तर्गत साहित्यिक ग्रन्थों से प्राप्त ऐतिहासिक वस्तुओं का अध्ययन किया जाता है। साहित्यिक साक्ष्य को दो भागों में विभाजित किया जा सकता है-
धार्मिक साहित्य और लौकिक साहित्य।

धार्मिक साहित्

धार्मिक साहित्य के अन्तर्गत ब्राह्मण तथा ब्राह्मणेत्तर साहित्य की चर्चा की जाती है।

  • ब्राह्मण ग्रन्थों में-

वेद, उपनिषद, रामायण, महाभारत, पुराण, स्मृति ग्रन्थ आते हैं।

  • ब्राह्मणेत्तर ग्रन्थों में जैन तथा बौद्ध ग्रन्थों को सम्मिलित किया जाता है।

लौकिक साहित्य

लौकिक साहित्य के अन्तर्गत ऐतिहासिक ग्रन्थ, जीवनी, कल्पना-प्रधान तथा गल्प साहित्य का वर्णन किया जाता है

धर्म-ग्रन्

प्राचीन काल से ही भारत के धर्म प्रधान देश होने के कारण यहां प्रायः तीन धार्मिक धारायें- वैदिक, जैन एवं बौद्ध प्रवाहित हुईं। वैदिक धर्म ग्रन्थ को ब्राह्मण धर्म ग्रन्थ भी कहा जाता है

ब्राह्मण धर्म-ग्रं

ब्राह्मण धर्म - ग्रंथ के अन्तर्गत वेद, उपनिषद्, महाकाव्य तथा स्मृति ग्रंथों को शामिल किया जाता है

वे

Main.jpgमुख्य लेख : वेद

वेद एक महत्त्वपूर्ण ब्राह्मण धर्म-ग्रंथ है। वेद शब्द का अर्थज्ञानमहतज्ञान अर्थातपवित्र एवं आध्यात्मिक ज्ञानहै। यह शब्द संस्कृत केविद्धातु से बना है जिसका अर्थ है जानना। वेदों के संकलनकर्ता 'कृष्ण द्वैपायन' थे। कृष्ण द्वैपायन को वेदों के पृथक्करण-व्यास के कारण 'वेदव्यास' की संज्ञा प्राप्त हुई। वेदों से ही हमें आर्यो के विषय में प्रारम्भिक जानकारी मिलती है। कुछ लोग वेदों को अपौरुषेय अर्थात दैवकृत मानते हैं। वेदों की कुल संख्या चार है-

ब्राह्मण ग्रं

Main.jpgमुख्य लेख : ब्राह्मण साहित्य

यज्ञों एवं कर्मकाण्डों के विधान एवं इनकी क्रियाओं को भली-भांति समझने के लिए ही इस ब्राह्मण ग्रंथ की रचना हुई। यहां पर 'ब्रह्म' का शाब्दिक अर्थ हैं- यज्ञ अर्थात यज्ञ के विषयों का अच्छी तरह से प्रतिपादन करने वाले ग्रंथ ही 'ब्राह्मण ग्रंथ' कहे गये। ब्राह्मण ग्रन्थों में सर्वथा यज्ञों की वैज्ञानिक, अधिभौतिक तथा अध्यात्मिक मीमांसा प्रस्तुत की गयी है। यह ग्रंथ अधिकतर गद्य में लिखे हुए हैं। इनमें उत्तरकालीन समाज तथा संस्कृति के सम्बन्ध का ज्ञान प्राप्त होता है। प्रत्येक वेद (संहिता) के अपने-अपने ब्राह्मण होते हैं।

आरण्य

Main.jpgमुख्य लेख : आरण्यक साहित्य

आरयण्कों में दार्शनिक

There are no products to list in this category.
Powered By - Agra Web Hosting You are visitor No. web counter